School love story in hindi for students | स्कूल का प्यार

School love story in hindi for students

यह प्यार की कहानी (School love story in hindi for students) जब शुरू हुई थी जब में स्कूल में पढ़ता था यह कक्षा आठ की बात है जब मुझे पहला love हुआ था मुझे नहीं लगता था की यह love मुझे आसानी से हो जाएगा शीतल इस बात को नहीं जानती थी उसे तो इस बारे में कुछ भी पता नहीं था यह प्यार school से शुरू हुआ था, शीतल को हर रोज देखा करता था मगर उससे बात करने की कभी भी हिम्मत नहीं हुई थी यही कारन था की उसे पता नहीं था,

School love story in hindi for students : स्कूल का प्यार

School love story
School love story

हमेशा मुझे यही लगा रहा था की समय से school जाना चाहिए because ऐसा करने से एक बात हो सकती थी की अगर वह जल्दी ही school आ जाती है तो में उससे बात कर सकता हु मगर अभी तो कोई भी मौका नहीं मिला था वह अभी भी समय पर ही आती थी अगर वह समय से पहले आ जाती तो बहुत अच्छा होता but ऐसा कोई भी मौका नहीं मिल पाया था पता नहीं कब वह time मिलेगा

 

हर रोज यही सोचकर school जल्दी आता था जिससे मेरी मुलाकात हो जाए और में अपनी बात शीतल को बता सकू, बहुत समय इंतज़ार करने के बाद ऐसा समय आ ही गया था, जब वह अचानक ही school जल्दी आ गयी थी वह अपनी सीट पर बैठी थी but मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी आज वह समय भी था but कोई बात नहीं हुई थी और यह समय भी चला गया था मुझे तो यह भी पता नहीं था की वह जानती भी है या नहीं, उसे हर रोज देखा करता था जिससे वह भी मुझे देखे और कुछ पता चल पाए

love story in hindi
love story in hindi

ऐसा करते हुए लगभग एक साल का वक़्त बीत गया था यह बात स्कूल से शुरू होकर school पर ही खत्म हो रही थी और हमारे एग्जाम भी आ गए थे अब इन बातो से कोई फर्क नहीं पडता है because अब हमारे एग्जाम आ गए थे और पढ़ाई पर ध्यान भी देना जरुरी हो गया था एग्जाम हर रोज चल रहे थे but इस बात को अभी सोचा नहीं जा सकता था एक दिन हमारी सीट पास में आ गयी थी क्योकि एग्जाम थे और हर रोज सभी को बदलकर बैठाया जाता था

 

अब अपने एग्जाम पर ध्यान दे या उस पर, यह बता सोचने की नहीं थी but लग रहा था की अपने एग्जाम पर धयान देना जरुरी होता है अपना एग्जाम अभी पूरा होने वाला था की उसका पेन नीचे गिर गया था जैसे ही उसे पेन दिया तो वह कहने लगी की मुझे तुमसे बात करनी है एग्जाम के बाद मिलना, यह सुनकर तो यही लग रहा था की अब पता नहीं वह मेरी शिकायत कर सकती है उसकी बातो से लग रहा था की उसे पता चल गया है की में उसे देख रहा था अब तो एग्जाम  पूरा होने के बाद school से घर जल्दी ही पहुंचा जाए     

 

जब एग्जाम पूरा हुआ था जल्दी से घर पहुंचा जाए यही बता सोचकर school से निकलने के बारे में सोचा जा रहा था मगर तभी वह मेरे सामने खड़ी थी शीतल को क्या लग रहा था यह मुझे नहीं पता था but वह कहती है की मुझे पता है की तुम मुझे देख रहे थे मेने बहुत बार तुम्हे कक्षा में देखा था तुम मुझे क्यों देखते हो यह बात मुझे तुमसे पूछनी है, उसकी बता सुनकर मन में बहुत तरह के ख्याल थे

 

but डर भी लग रहा था वह स्कूल में सभी को बता सकती है इसलिए उस वक़्त तो यही कह दिया था की मुझे इस बारे में पता नहीं है में तो वैसे ही देख रहा था यह बात सुनकर वह कहती है की अब से तुम्हे देखने की जरूरत नहीं है उसकी यह बात सुनकर बहुत डर लग रहा था but उस दिन के बाद यही सोचा था की आगे से में उसे school में कभी नहीं देखूंगा यह बात सोचकर में अपने घर चला गया था यह love कितना अजीब था जिसका अहसास मुझे ही था 

School love story in hindi for students

उस दिन के बाद ऐसा नहीं हुआ था क्योकि आठवीं कक्षा के बाद मुझे दूसरे स्कूल में जाना पड़ा था कुछ love की किसमत बहुत कम होती है जिसका पता हमे भी नहीं होता है अगर आपको यह कहानी (School love story in hindi for students) पसंद आयी है तो जरूर शेयर करे

Read More Hindi Story :-

घड़ी कुछ कहती है कहानी

जीवन में अच्छे की परख हिंदी कहानी

हमारे लिए क्या जरुरी है हिंदी कहानी

किसमत की कहानी

दोस्त ने की मदद कहानी

सब कुछ भूल गया कहानी

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!